निर्भया बन रही है डरी सहमी महिलाओं का सहारा … पहचान उजागर किये बिना भी महिलाओं को न्याय दिलाने का निर्भया स्क्वॉड ने लिया हैं प्रण

    0

    जयपुर 16 सितंबर।पुलिस उपायुक्त मैट्रो श्रीमती ऋचा तोमर ने बताया कि एक महिला जो अपाहिज होने के साथ- साथ विधवा भी हैं , पूर्व में उसके घर में उसके पति का दोस्त बनकर कभी कभार महिला के पति के साथ आने वाले जावेद , निवासी – जुलाआ का मोहल्ला , घाटगेट जयपुर ने 4 साल पूर्व महिला के पति का देहान्त हो जाने के बाद महिला को सहारा देने व हॉस्पीटल में नौकरी दिलवाने के बहाने से कई बार हॉस्पीटल अपने साथ लेकर गया I महिला ने जावेद पर भरोसा कर उसके साथ खोले के हनुमानजी के दर्शन कर एक होटल में चाय नाश्ता किया ,जिसकी फोटो जावेद ने अपने फोन में ले ली ।उसके बाद लगातार महिला को फोन करने लगा व मिलने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया ,नहीं मिलने पर फोटो वायरल करने की धमकी देने लगा जिसके चलते महिला अन्दर ही अन्दर परेशान होती चली गई । इसी दौरान महिला को निर्भया स्क्वॉड की हैंड कानि ० संतोष व कानि. सरिता के मोबाइल नंबर मिले जिन्हें फोन कर महिला ने अपनी सारी व्यथा बताई ।दोनों निर्भया कानि तुरंत महिला के पास पहुंची व उसके फोन पर लगातार जावेद के आ रहे फोन को देखा जावेद ने महिला को माणक चौक पर मिलने आने को कहा , जहां पर महिला को ऑटो रिक्शा में बैठने का दबाव बनाते समय जावेद को निर्भया टीम ने पकड कर माणक चौक थाने को सुपुर्द कर 151 CrpC में बंद करवायाI महिला ने अपनी पहचान उजागर करने व रिपोर्ट देने से मना किया क्योंकि वह किसी कानूनी पडपंच में नहीं पड़ना चाहती थी यह मात्र एक कार्यवाही नहीं है , निर्भया टीम की नोडल अधिकारी डीसीपी ऋचा तोमर ने बताया की इस तरह की दर्जन भर कार्यवाही निर्भया टीम द्वारा की गई है ।इनमें महिला को कभी उसके पड़ोसी तो कभी उसके सहपाठी व सहकर्मी द्वारा परेशान व ब्लैकमेल करने पर जहां वह अपने परिजनों को भी घटना की जानकारी नहीं दे पाती हैं वहां वह अपनी समस्या निर्भया टीम से खुलकर शेयर कर रही है ।महिला की पहचान गुप्त रख कर ऐसे असामाजिक तत्वों के खिलाफ लगातार कार्यवाही अमल में लाई जा रही अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त निर्भया स्क्वॉड श्री मोहेश चौधरी ने कहा की हमारी हेल्पलाइन 100 112 1090 एवं व्हाट्सएप हेल्पलाइन 8764 868200 पर कॉल करे।हर महिला की सुरक्षा ही जयपुर पुलिस की प्राथमिकता है

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)