जयपुर में नकली रेमडेसिविर वायल की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह का मास्टर माईंड मयंक गर्ग मनाली (हिमाचल प्रदेष) से गिरफ्तार।

    0

    रिज़वन खान

    पुलिस उपायुक्त जयपुर उत्तर देषमुख परिस अनिल ने बताया कि ’’दिनांक 21.04.2021 कोपुलिस थाना कोतवाली क्षेत्र के फिल्म कालोनी दवा बाजार में मयूर टावर में दक्ष डिस्ट्रीब्यूटर के मालिक रामावतार यादव को महंगे दामों पर रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते हुए गिरफ्तार किया गया था।तत्पष्चात गिरोह के अन्य सदस्य शंकर दयाल सैनी व विक्रम सिंह गुर्जर व डाॅ0 जितेष अरोडा कोगिरफ्तार किया गया था। उक्त सभी अभियुक्त अभी न्यायिक अभिरक्षा में चल रहे हैं। इस गिरोह का मास्टर र्माइ ण्ड मयंक गर्ग घटना के बाद से ही माेबाईल बंद करके फरार चल रहा था।’’ मयंक गर्ग की तलाष हेतु श्री धर्मेन्द्र सागर अति0 पुलिस उपायुक्त जयपुर उत्तर द्वितीय, श्री मेघचन्द मीना सहायक पुलिस आयुक्त कोतवाली के निर्देषन एवं श्री विक्रम सिंह चारण पु0नि0 थानाधिकारी थाना कोतवाली जयपुर के नेतृत्व में श्री हेमन्त जनागल उप निरीक्षक, श्री छीतर मल, श्री बिषन सिंह, विजय कुमार, अविनाष कानि व राकेष कुमार कानि की पुलिस टीम का गठन किया गया था। पुलिस टीम के द्वारा समय समय पर अभियुक्त के निवास मलोट जिला मुक्तसर साहिब पंजाब एवं दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखण्ड, उत्तरप्रदेष आदि राज्यों में अभियुक्त मयंक गर्ग की तलाष की गई लेकिन अभियुक्त गिरफ्तारी से बचने के लिये काफी सतर्कता बरत रहा था। मोर्बाइल का उपयोग भी नहीं कर रहा था। पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त की लगातार तलाष की जाती रही। दिनांक 03.07.2021 को श्री हेमन्त जनागल उप निरीक्षक, श्री राकेष कुमार, श्री मनोज कानि को मयंक गर्ग की तलाश हेतु आसूचना प्राप्त होने पर चंडीगढ रवाना किया गया था लेकिन पुलिस टीम पहुंचने से पूर्व ही अभियुक्त मयंक गर्ग चंडीगढ से होटल से चैक आउट कर फरार हो गया। अभियुक्त की पुनः तलाष की गई। पुलिस उपायुक्त जयपुर उत्तर के कार्यालय के श्री मनोज कुमार कानि न0ं 7197 व नन्छूराम कानि व थाना कोतवाली के विजय कुमार कानि नं0 8840 से तकनीकी सहयोग प्राप्त किया गया। तकनीकी अनुसंधान से मुल0 मयंक गर्ग के मनाली में हाेने की जानकारी प्राप्त हुई। इस पर पुलिस टीम तुरन्त मनाली (हिमाचल प्रदेष) पहुंची। जहां पर पहाडों में स्थित सैकडों होटलों को सर्च करअथक प्रयासों के बाद मयंक गर्ग को दस्तयाब किया जाकर मुकदमा हाजा में गिरफ्तार किये जाने में सफलता प्राप्त हुई है। अभियुक्त ने प्रारम्भिक पूछताछ में कोरोना महामारी आपदा को अवसर में बदलते हुए जयपुर एवं अन्य शहरों में नकली रेमडेसिविर वायल की ब्लैक मार्केटिंग महंगे दामों पर अपने गिरोह के अन्य सदस्याें के मार्फत करना स्वीकार किया है। अधिक के प्राप्ति स्राेत, राजस्थान व अन्य राज्यों में अन्य किन किन व्यक्तियों को सप्लाई किया है, के बारे में विस्तृत अनुसंधान जारी है। अभियुक्त मयंक गर्ग भीका जी कामा प्लेस दिल्ली में मेडप्रो डिस्ट्रीब्यूटर तथा चंडीगढ में एडवांस मेडिकल सिस्टम नाम से फर्म खोलकर मेडिसन का व्यवसाय कर रहा है । इस मेडिकल व्यवसाय की आड में लालच व लग्जरी लाईफ जीने के आषय से नकली रेमडेसिविर की ब्लेक मार्केटिंग करना शुरू किया। गिरोह के सदस्यों की जयपुर में गिरफ्तारी होने पर मुल0 मयंक ने गर्ग सैकडों नकली रेमडेसिविर वायल फरीदाबाद नहर में फैंकने का कथन किया है जिसकी तस्दीक व अनुसंधान किया जा रहा है। नाम पता मुल0 – मयंक गर्ग पुत्र सतगुरू देवराज निवासी 485 पप्पी मार्केट मलोट जिला श्रीमुक्तसर साहिब पंजाब।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)